Folk Songs

    शिव महसूस हुए थे मुझे

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    ShivMahasoosHue

    वहाँ हिमालय में,
    बर्फों पर निशान तो नहीं थे, पैरों के
    हवा के झोकों में लेकिन सुनी थी चाप मैंनें।
    पर्वतों की ऊंची ऊंची श्रृंखलाओं पर
    भ्रम था, पर आभा सी दिखी थी मुझे।
    बादलों की धम धम में गरजी थी
    डमरू की नाद कई कई बार।
    वहां प्रकृति की रग-रग में थे
    दिखे तो नहीं पर साक्षी था मैं

    वहाँ हिमालय में,
    शिव महसूस हुए थे मुझे।



    - वैभव जोशी।

    Related Article

    Vahaan Himaalay Men

    Main Bhee Kabhee Ghar Thaa

    Kuchh Gaanv Saa Baakee Hai

    Ke Ni Hun

    Jay Golu Devata

    Yaad Hai Wo Nandhi Gauraiya

    Aaj har pahaad mujhako

    Devadaar ab utane kahaan

    Ek aur gauraa

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    Aa Ha Re Sabha

    827

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    796

    Sherda Bhal Cha

    770

    Yatra

    766

    Also Know

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    Jal kaise bharoon

    412

    Haraa Pnkh Mukh Laal Suvaa

    264

    He merii aankhyun kaa ratan

    593

    Malat Malat Nainaa Laal Bhaye

    296

    Aas dinai re

    306

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    Buransh- Sumitranandan Pant

    444

    Ke Ni Hun

    300

    Yaad Hai Wo Nandhi Gauraiya

    156