Folk Songs

    कैसा हो स्कूल हमारा

    जहाँ न बस्ता कंधा तोड़े, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न पटरी माथा फोड़े, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न अक्षर कान उखाड़े, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न भाषा जख्म उघाड़े, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    कैसा हो स्कूल हमारा?


    जहाँ अंक सच-सच बतलायें, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ प्रश्न हल तक पहुँचायें, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न हो झूठ का दिखावा, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ सूट-बूट का हव्वा, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    कैसा हो स्कूल हमारा?


    जहाँ किताबें निर्भय बोले, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    मन के पन्ने-पन्ने खोलें, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न कोई बात छुपाये, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न कोई दर्द दखाये, ऐसा हो स्कूल हमारा,
    कैसा हो स्कूल हमारा?


    जहाँ न मन में मन-मुटाव हो,
    जहाँ न चेहरों में तनाव हो,
    जहाँ न आँखों में दुराव हो
    जहाँ न कोई भेद-भाव हो


    जहाँ फूल स्वाभाविक महके - ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ बालपन जी भर चहके - ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न अक्षर कान उखाई - ऐसा हो स्कूल हमारा,
    जहाँ न भाषा जख्म उघाड़े - ऐसा हो स्कूल हमारा,
    ऐसा हो स्कूल हमारा।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    यात्रा

    कैसे कह दूँ, इन सालों में

    जैंता एक दिन तो आलो

    यह रंग चुनावी रंग ठैरा

    आज हिमाल तुमन के धत्यूंछौ

    हाउ पानिक पिन

    Leave A Comment ?

    Popular Articles