Folk Songs

    कामिनी भर भर मारत रंग

    कामिनी भर भर मारत रंग,
    भर भर मारत रंग कामिनी
    भर पिचकारी ऐसी मारी,
    भीग गई मैं तो सारी सारी । कामिनी भर भर....
    अबीर गुलाल के थाल भरे हैं,
    केशर रंग छिड़काई -2। कामिनी भर भर....
    मुट्ठी भर अबीर नयन बीच डारी,
    झाड़त झाड़त होरी होरी। कामिनी भर भर....
    दौड़ के पकड़ो हाथ न आये,
    झाड़िन में छुप जात-जात। कामिनी भर भर....

    Related Article

    होली आई रे कन्हाई रंग

    जमुना तट राम खेलें होरी

    जल कैसे भरूं जमुना गहरी

    एक मोती दो हार

    सिद्धि को दाता विघ्न विनाशन

    ब्रज मण्डल देश दिखाओ रसिया

    तुम सिद्धि करो महाराज

    हरा पंख मुख लाल सुवा

    मलत मलत नैना लाल भये

    Leave A Comment ?

    Popular Articles