Folk Songs


    एक बुरूंश कहीं खिलता है

    खून को अपना रंग दिया है बुरूंश ने
    बुरूंश ने सिखाया है
    फेफड़ों में भरपूर हवा भरकर
    कैसे हंसा जाता है
    कैसे लड़ा जाता है
    ऊंचाई की हदों पर
    ठंडे मौसम के विरुद्ध
    एक बुरूंश कहीं खिलता है
    खबर पूरे जंगल में
    आग की तरह फैल जाती है
    आ गया है बुरूंश
    पेड़ों में अलख जगा रहा है
    कोटरों में बीज बो रहा है पराक्रम के
    बुरूंश आ गया है
    जंगल में एक नया मौसम आ रहा है

    Related Article