Folk Songs

    बुरांश- सुमित्रानंदन पन्त

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    सुमित्रानंदन पन्त जी की अपनी दुदबोली कुमाऊंनी में एक मात्र कविता है।



    सार जंगल में त्वि ज क्वे न्हां रे क्वे न्हां,
    फुलन छै के बुरूंश ! जंगल जस जलि जां।

    सल्ल छ, दयार छ, पई अयांर छ,
    सबनाक फाडन में पुडनक भार छ,
    पै त्वि में दिलैकि आग, त्वि में छ ज्वानिक फाग,
    रगन में नयी ल्वै छ प्यारक खुमार छ।

    सारि दुनि में मेरी सू ज, लै क्वे न्हां,
    मेरि सू कैं रे त्योर फूल जै अत्ती माँ।

    काफल कुसुम्यारु छ, आरु छ, आँखोड़ छ,
    हिसालु, किलमोड़ त पिहल सुनुक तोड़ छ,
    पै त्वि में जीवन छ, मस्ती छ, पागलपन छ,
    फूलि बुंरुश! त्योर जंगल में को जोड़ छ?

    सार जंगल में त्वि ज क्वे न्हां रे क्वे न्हां,
    मेरि सू कैं रे त्योर फुलनक म' सुंहा॥

    Related Article

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    Aa Ha Re Sabha

    827

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    796

    Sherda Bhal Cha

    770

    Yatra

    766

    Also Know

    Aaj Himaal Tuman Ke Dhatyoonchhau

    230

    Humra Pahadu Ki Nari

    620

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    Jag Chhu Yau Paraai Sherova

    252

    Jay Golu Devata

    238

    Dhany Yo Graam Badaau

    200

    Bolaa Bhai-Bandhoo Tumathain Hanoo Uttarakhand ChayeNoo Chh

    517

    Yaad Hai Wo Nandhi Gauraiya

    156

    Devadaar ab utane kahaan

    161

    Dvi Dinak Dyar

    737