Folk Songs

    कैसे कह दूँ, इन सालों में

    कैसे कह दूँ, इन सालों में,

    कुछ भी नहीं घटा कुछ नहीं हुआ,

    दो बार नाम बदला-अदला,

    दो-दो सरकारें बदल गई

    और चार मुख्यमंत्री झेले ।


    "राजधानी" अब तक लटकी है,

    कुछ पता नहीं "दीक्षित" का पर,

    मानसिक सुई थी जहाँ रुकी,

    गढ़-कुमूँ-पहाड़ी-मैदानी, इत्यादि-आदि,

    वो सुई वहीं पर अटकी है ।


    वो बाहर से जो हैं सो पर,

    भीतरी घाव गहराते हैं,

    आँखों से लहू रुलाते हैं ।

    वह गन्ने के खेतों वाली,

    आँखें जब उठाती हैं,

    भीतर तक दहला जातीं हैं ।


    सच पूछो- उन भोली-भाली,

    आँखों का सपना बिखर गया ।

    यह राज्य बेचारा "दिल्ली-देहरा एक्सप्रेस"

    बनकर ठहर गया है ।

    जिसमें बैठे अधिकांश माफ़िया,

    हैं या उनके प्यादे हैं,

    बाहर से सब चिकने-चुपड़े,

    भीतर नापाक इरादे हैं,

    जो कल तक आँखें चुराते थे,

    वो बने फिरे शहजादे हैं ।


    थोड़ी भी गैरत होती तो,

    शर्म से उनको गढ़ जाना था,

    बेशर्म वही इतराते हैं ।

    सच पूछो तो उत्तराखण्ड का,

    सपना चकनाचूर हुआ,

    यह लेन-देन, बिक्री-खरीद का,

    गहराता नासूर हुआ ।

    दिल-धमनी, मन-मस्तिष्क बिके,

    जंगल-जल कत्लेआम हुआ,

    जो पहले छिट-पुट होता था,

    वो सब अब खुलेआम हुआ ।


    पर बेशर्मों से कहना क्या?

    लेकिन "चुप्पी" भी ठीक नहीं,

    कोई तो तोड़ेगा यह 'चुप्पी'

    इसलिये तुम्हारे माध्यम से,

    धर दिये सामने सही हाल,

    उत्तराखण्ड के आठ साल.....!

    Related Article

    कैसा हो स्कूल हमारा

    यात्रा

    जैंता एक दिन तो आलो

    यह रंग चुनावी रंग ठैरा

    आज हिमाल तुमन के धत्यूंछौ

    हाउ पानिक पिन

    Leave A Comment ?

    Popular Articles