Folk Songs

    यात्रा

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियाँ तक जाना क्या कहने हैं।
    कोलाहल को गीत बनाना- क्या कहने हैं।
    गीतों से कुहराम मचाना- क्या कहने हैं।
    कोयल तो पंचम में गाती ही है लेकिन
    तेरा-मेरा ये बतियाना- क्या कहने हैं।
    बिना कहे भी सब, जाहिर हो जाता है पर
    कहने पर भी कुछ रह जाना- क्या कहने हैं
    अभी अनकहा, बहुत-बहुत कुछ है हम सब में।
    इसी तड़फ को और बढ़ाया- क्या कहने हैं।
    प्यार, पीर, सघर्षों से भाषा बनती है
    ये मेरा तुझको समझाना- क्या कहने हैं।
    इसी बहाने चलो, नमन कर लें, उन सबको
    ‘अ’, से ‘ज्ञ’ तक सब लिख जाना- क्या कहने हैं।
    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियों तक जाना- क्या कहने हैं।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    Keisha Ho School Humara

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    432

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    379

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    367

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    341

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    337

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    298

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    264

    Humra Pahadu Ki Nari

    146

    Keisha Ho School Humara

    142

    Biiroo Bhadoo ku Desh Baavan Gadoo Ku Desh

    136

    Also Know

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    379

    Humra Pahadu Ki Nari

    146

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    432

    Bolaa Bhai-Bandhoo Tumathain Hanoo Uttarakhand ChayeNoo Chh

    112

    Dagadoo ni Raiaoo Sadaani Dagadyaa

    119

    Biiroo Bhadoo ku Desh Baavan Gadoo Ku Desh

    136

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    95

    Sherda Bhal Cha

    136

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    341

    Dvi Dinak Dyar

    116