Folk Songs

    यात्रा

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियाँ तक जाना क्या कहने हैं।
    कोलाहल को गीत बनाना- क्या कहने हैं।
    गीतों से कुहराम मचाना- क्या कहने हैं।
    कोयल तो पंचम में गाती ही है लेकिन
    तेरा-मेरा ये बतियाना- क्या कहने हैं।
    बिना कहे भी सब, जाहिर हो जाता है पर
    कहने पर भी कुछ रह जाना- क्या कहने हैं
    अभी अनकहा, बहुत-बहुत कुछ है हम सब में।
    इसी तड़फ को और बढ़ाया- क्या कहने हैं।
    प्यार, पीर, सघर्षों से भाषा बनती है
    ये मेरा तुझको समझाना- क्या कहने हैं।
    इसी बहाने चलो, नमन कर लें, उन सबको
    ‘अ’, से ‘ज्ञ’ तक सब लिख जाना- क्या कहने हैं।
    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियों तक जाना- क्या कहने हैं।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    Keisha Ho School Humara

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    Jaintaa Ek Din To Aalo

    Yah rng chunaavee rng thairaa

    Aaj Himaal Tuman Ke Dhatyoonchhau

    Haau Paanik Pin

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    967

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    946

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    734

    Aa Ha Re Sabha

    724

    Sherda Bhal Cha

    684

    Keisha Ho School Humara

    678

    Also Know

    Ek aur gauraa

    152

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    511

    Haraa Pnkh Mukh Laal Suvaa

    196

    Bolaa Bhai-Bandhoo Tumathain Hanoo Uttarakhand ChayeNoo Chh

    465

    Aas dinai re

    216

    Ke Ni Hun

    182

    Shiv Mahasoos Hue The Mujhe

    157

    Tum Siddhi Karo Mahaaraaj

    285

    He merii aankhyun kaa ratan

    527

    Sherda Bhal Cha

    684