Folk Songs

    यात्रा

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियाँ तक जाना क्या कहने हैं।
    कोलाहल को गीत बनाना- क्या कहने हैं।
    गीतों से कुहराम मचाना- क्या कहने हैं।
    कोयल तो पंचम में गाती ही है लेकिन
    तेरा-मेरा ये बतियाना- क्या कहने हैं।
    बिना कहे भी सब, जाहिर हो जाता है पर
    कहने पर भी कुछ रह जाना- क्या कहने हैं
    अभी अनकहा, बहुत-बहुत कुछ है हम सब में।
    इसी तड़फ को और बढ़ाया- क्या कहने हैं।
    प्यार, पीर, सघर्षों से भाषा बनती है
    ये मेरा तुझको समझाना- क्या कहने हैं।
    इसी बहाने चलो, नमन कर लें, उन सबको
    ‘अ’, से ‘ज्ञ’ तक सब लिख जाना- क्या कहने हैं।
    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियों तक जाना- क्या कहने हैं।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    Keisha Ho School Humara

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    Jaintaa Ek Din To Aalo

    Yah rng chunaavee rng thairaa

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    881

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    867

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    778

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    771

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    741

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    737

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    568

    Keisha Ho School Humara

    533

    Aa Ha Re Sabha

    504

    Sherda Bhal Cha

    494

    Also Know

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    737

    Haan Mohan Giradhaaree

    33

    Holee Aaii Re Kanhaa_ii Rng

    161

    Jal kaise bharoon

    18

    Sun Le Dagariya

    182

    Braj Mandal Desh Dikhaa

    34

    Deharaadoon Vaalaa Hoon

    436

    Dagadoo ni Raiaoo Sadaani Dagadyaa

    389

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    568

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    881