Folk Songs

    यात्रा

    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियाँ तक जाना क्या कहने हैं।
    कोलाहल को गीत बनाना- क्या कहने हैं।
    गीतों से कुहराम मचाना- क्या कहने हैं।
    कोयल तो पंचम में गाती ही है लेकिन
    तेरा-मेरा ये बतियाना- क्या कहने हैं।
    बिना कहे भी सब, जाहिर हो जाता है पर
    कहने पर भी कुछ रह जाना- क्या कहने हैं
    अभी अनकहा, बहुत-बहुत कुछ है हम सब में।
    इसी तड़फ को और बढ़ाया- क्या कहने हैं।
    प्यार, पीर, सघर्षों से भाषा बनती है
    ये मेरा तुझको समझाना- क्या कहने हैं।
    इसी बहाने चलो, नमन कर लें, उन सबको
    ‘अ’, से ‘ज्ञ’ तक सब लिख जाना- क्या कहने हैं।
    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियों तक जाना- क्या कहने हैं।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    कैसा हो स्कूल हमारा

    कैसे कह दूँ, इन सालों में

    जैंता एक दिन तो आलो

    यह रंग चुनावी रंग ठैरा

    आज हिमाल तुमन के धत्यूंछौ

    हाउ पानिक पिन

    Leave A Comment ?

    Popular Articles