KnowledgeBase


    शान्तन देव

    शान्तन देव (जीवनावधिः 12वीं सदी अनुमानित): पैनखण्डा, जोशीमठ (चमोली) में गढ़कनारा का शूरवीर प्रतापी गढ़पति। जोशीमठ के सामने उर्गम से विकट चढ़ाई पर निर्मित यह गढ़ पल्ला किमाणा जाने वाले मार्ग से गम्य है। गढ़ के कुछ ध्वंसावशेष आज भी मौजूद हैं। एक पंवाड़ा के अनुसार इस गढ़ का गढ़पति शान्तनदेव था। चाँदपुर गढ़ के गढ़ाधिपति पर जब चौखुटिया की ओर से 'सात-भाई-हीतों' ने आक्रमण कर दिया था, तब शान्तनदेव ने उसकी सहायता की थी। गैरसैण के निकट दस दिन तक 'सात-भाई-हीतों' से घमासान युद्ध हुआ। शान्तनदेव के हाथों छह-भाई-हीतों का वध हुआ। अन्त में वह स्वयं वीरगति को प्राप्त हो गया। उसकी रानी कफोला सती भी सती हो गयी। शान्तनदेव की वीरता के कारण ही चान्दपुर गढ़पति की युद्ध में विजय हुई थी (मध्य हिमालयः संस्कृति के पद चिन्ह, ले. डा. यशवन्त सिंह कठोच)।


    उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि वाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें: वाट्सएप उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें: फेसबुक पेज उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे YouTube Channel को Subscribe करें: Youtube Channel उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    Leave A Comment ?

    Garena Free Fire APK Mini Militia APK Download