KnowledgeBase


    कर्मभूमि - 1939

    ‌कर्मभूमि (1939) इसने ब्रिटिश गढ़वाल और टिहरी रियासत मे राजनैतिक चेतना को फैलाने का कार्य किया। गढ़वाल के प्रमुख कांग्रेसी नेता भैरवदत्त धूलिया, भक्त दर्शन, कमल सिंह नेगी, कुन्दन सिंह गुसाई, श्री देव सुमन, ललिता प्रसाद नैथाणी तथा नारायण दत्त बहुगुणा आदि इसके सम्पादक मंडल में थे। अतः गढ़वाल में कर्मभूमि कांगेसी नीतियों के प्रचार-प्रसार का प्रमुख साधन बना। इस रूप में यह शक्ति का सहयोगी बनकर उभरा। अपने प्रखर और प्रौढ़ सम्पादकियों के कारण कर्मभूमि को समय-समय पर ब्रिटिश सरकार और टिहरी रियासत से प्रताड़ित होना पड़ा। वास्तव में सन् 1939 के पश्चात ब्रिटिश गढ़वाल और टिहरी रियासत में कर्मभूमि ने शक्ति और गढ़वाली के कार्यां को ही स्वशैली मे पूर्ण किया। वर्तमान में यह पत्र कोटद्वार से प्रकाशित हो रहा है।


    उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि वाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें: वाट्सएप उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें: फेसबुक पेज उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे YouTube Channel को Subscribe करें: Youtube Channel उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    Leave A Comment ?