KnowledgeBase


    शेखर पाठक

    shekhar pathak

    डॉ शेखर पाठक

    जन्म-
    जन्म स्थानदेहरादून
    शिक्षा-
    पिता-
    व्यवसायइतिहासकार, लेखक, शिक्षाविद

    डॉ शेखर पाठक उत्तराखंड के एक भारतीय इतिहासकार, लेखक और शिक्षाविद् है। वह पीपल्स एसोसिएशन फॉर हिमालयन एरिया रीसर्च के संस्थापक भी है। पहर एक गैर लाभकारी संस्था है जो हिमालयी पर्यावरण के बारे में जागरूकता बढ़ाने और हिमालय को बचाने के लिए वैज्ञानिक, सामाजिक कार्यकर्ताओं और आम लोगों को एकजुट करने के लिए समर्पित है।


    करियर


    वह दो दशक तक नैनीताल में कुमाऊं विश्वविद्यालय में इतिहास के प्रोफेसर बने रहे। वह नई दिल्ली में किशोर मूर्ति में समकालीन अध्ययन केंद्र के नेहरू फेलो भी है।


    2008 में, उन्होंने हिमालयी लोगों के अध्ययन हेतु मैगसेसे पुरस्कार विजेता चंडी प्रसाद भट्ट के साथ मिलकर तीन वर्षीय परियोजना का शुरुआत की लेह से अरुणाचल प्रदेश तक यात्रा को।


    1963 में स्थापित, हिमालयी लोगों पर शोध के लिए नैनीताल आधारित एक गैर-लाभकारी संगठन पीपल्स एसोसिएशन फॉर हिमालय एरिया रिसर्च (पीएचएआर) द्वारा प्रकाशित वार्षिक पत्रिका के वह संस्थापक संपादक है।


    9-11 अप्रैल 2002 से युकसोम, सिक्किम में आयोजित WMPA (वर्ल्ड माउंटेन पीपुल्स एसोसिएशन) की पहली एशिया स्तरीय बैठक में, उन्हें विश्व माउंटेन पीपल्स एसोसिएशन (डब्ल्यूएमपीए) के भारतीय अध्याय के राष्ट्रीय समन्वयक के रूप में चुना गया था।


    डॉ उमा भट्ट के साथ मिलकर उन्होंने हिमालयी समन्वेषक पंडित नैन सिंह रावत की जीवनी, (एशिया की पीठ पर) का सह-लेखन किया।


    वर्ष 2015 में देश में असहनशीलता के मुद्दे पर उन्होंने अपना पुरस्कार लौटा देने की घोषणा की थी।


    जवाहरलाल नेहरू फैलोशिप को प्राप्त करने के बाद वे वर्तमान में नेहरू मेमोरियल संग्रहालय और पुस्तकालय में एक शोध विद्वान है।


    पुरस्कार


    2006: महापंडित राहुल संकर्तीयन पुरस्कार (केन्द्रीय हिंदी संस्थान)
    2007: पद्म श्री (भारत सरकार)

    Leave A Comment ?