KnowledgeBase

    हरीश रावत

    हरीश चंद्र सिंह रावत एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं जो 2014-2017 से उत्तराखंड के मुख्यमंत्री थे। पांच बार के संसद सदस्य, रावत भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं।


    प्रारंभिक जीवन


    हरीश रावत का जन्म 27 अप्रैल 1948 को एक राजपूत परिवार में राजेंद्र सिंह रावत और देवकी देवी जी के यहाँ हुआ था। उनका जन्मस्थान अल्मोड़ा जिले में चौनलिया के पास मोहनारी गांव है। अल्मोड़ा में स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद वह स्नातक और परस्नातक स्तर की पढ़ाई करने लखनऊ विश्वविद्यालय चले गए और वहां से 5 वर्षीया बी ए - एलएलबी का डिग्री कोर्स किया।


    राजनैतिक करियर


    उन्होंने गांव स्तर की राजनीति से शुरुआत की और कई वर्षों तक एक व्यापारी संघ के नेता के रहे और एक भारतीय युवा कांग्रेस के सदस्य के रूप में कार्य करने के बाद, वह 1980 के लोकसभा चुनाव में अल्मोड़ा संसदीय क्षेत्र से भाजपा के अनुभवी मुरली मनोहर जोशी को हराकर 7 वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में भारतीय संसद में शामिल हुए। 8 वीं लोकसभा और 9 वी लोकसभा में भी वह यहीं से सांसद रहे है। वह 1980 से कांग्रेस स्वयंसेवी विंग, कांग्रेस सेवा दल के प्रमुख भी है।


    2000 में, सर्वसम्मति से वह उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी (यूपीसीसी) के अध्यक्ष के रूप में चुने गए और यशापल आर्य द्वारा प्रतिस्थापित किए जाने तक वह इस पद पर बने रहे। 2002 में, उन्हें भारतीय संसद के ऊपरी सदन, राज्य सभा के सदस्य के रूप में चुना गया था।


    2009 के लोकसभा चुनाव में, अल्मोड़ा के आरक्षित सीट घोषित हो जाने के बाद उन्होंने अपना पारंपरिक गढ़ छोड़ा, उन्होंने हरिद्वार से चुनाव लड़ने का फैसला किया और 3.3 लाख मतों के साथ चुनाव जीता।


    15 वीं लोकसभा के सदस्य के रूप में, रावत ने 2012 से 2014 तक प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह के कैबिनेट में जल संसाधन मंत्री के रूप में सेवा की। उन्होंने संसदीय कार्य मंत्रालय, कृषि मंत्रालय, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय (2011-2012) और श्रम और रोजगार मंत्रालय (2009-2011) में राज्य मंत्री के रूप में भी काम किया।


    फरवरी 2014 में, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के रूप में रावत ने पद की शपथ ली, जब विजय बहुगुणा ने जून 2013 के बाढ़ के बाद पुनर्वास के निपटावन न कर पाने पर आलोचना झेलनी पड़ी जुलाई 2014 में, उन्होंने 19 हजार वोटों से धुर्चुला विधानसभा सीट से उप-चुनाव जीता था।


    18 मार्च 2016 को, 9 कांग्रेस विधायकों ने रावत के खिलाफ विद्रोह किया, जिससे कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार अल्पमत में आ गयी। केंद्र सरकार ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने का निर्णय लिया, और 27 मार्च 2016 को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा इस आदेश पर हस्ताक्षर किए गए। 11 मार्च को, हरीश रावत के नेतृत्व में कांग्रेस ने 2017 में भाजपा के खिलाफ विधानसभा चुनावों में हार गई। उन्हें दो सीटों (हरिद्वार ग्रामीण और किच्छा) से भी पराजित होना पड़ा, जहाँ से उनके द्वारा चुनाव लड़ा गया था।

    Leave A Comment ?