KnowledgeBase

    पवनदीप राजन

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

     pawandeep

     पवनदीप राजन


    उत्तराखंड के पवनदीप राजन ने पहाड़ी गाने गाकर उत्तराखंड के लोगों को अपना दीवाना तो बनाया ही साथ् में अपनी इसी जादू भरी आवाज के कारण वह एंड टीवी के शो 'द वाइस इंडिया' के विजेता बने हैं। पवनदीप राजन ने अपनी आवाज से उत्तराखंड का नाम सबकी जुबां पर ला दिया है।

    बचपन

    प्रसिद्ध कुमाऊंनी लोकगायक सुरेश राजन के बेटे पवनदीप का जन्म 27 जुलाई 1996 उत्तराखंड चंपावत जिले में हुआ था। यही से उनकी शिक्षा—दिक्षा शुरू हुई। बचपन में ही उनकी रुचि संगीत में थी और उनकी इसी रुचि को देखते हुए उनके पिता ने उन्हें संगीत में ट्रेनिंग देनी शुरू की। उनके घर का मौहोल भी संगीत से जुड़ा हुआ था इसलिए उन्हें इस माहौल् का फायदा मिला और दिनप्रति दिन वह अच्छे सिंगर बनते चले गए।

    करियर

    पवनदीप राजन उत्तराखंड के चंपावत जिले के रहने वाले हैं। पवनदीप राजन ने डेढ़ साल की उम्र में अचानक थाली पर दादरा की ताल बजाई थी और तीन साल की उम्र में तबला वादन शुरू कर दिया था। पवनदीप की प्रतिभा देखकर कल्पना चौहान के पति राजेंद्र चौहान ने उन्हें अपनी एक एलबम में ब्रेक दिया। उत्तराखंड में उनका गाना मेरी माया बांद काफी पॉपलुर हुआ था।

    बॉलीवुड में जलवा

    पवनदीप राजन फिल्म निर्माता निर्देशक प्रहलाद निहलानी, गायक सोनू निगम, अदनान सामी समेत फिल्म अभिनेता गोविंदा, बॉबी देओल सहित कई नामचीन हस्तियों के साथ काम कर चुके हैं। अपनी आवाज से बॉलीवुड के प्रसिद्ध सिंगर्स को लुभा चुके पवनदीप राजन शो 'द वाइस इंडिया' में सिंगर शान की टीम में थे। शो 'द वाइस इंडिया' में पहले चरण के ब्लाइंड राउंड में पवनजीत राजन ने चारों जज मीका, शान, सुनिधि चौहान और हिमेश रेशमिया का दिल जीता और दूसरे राउंड में सिंगर शान की टीम में शामिल हुए।

    सम्मान 

    पवनदीप राजन शो 'द वाइस इंडिया' के विजेता तो बने ही साथ में उन्हें पचास लाख रुपये और एक कार भी ईनाम में मिली।  इसके अलावा एक एल्बम के गाने का करार भी हुआ है। इतनी कामयाबी छोटी सी उम्र में कम नहीं होती। पवनदीप की कामयाबी के लिए पूरे उत्तराखंड से उसके लिए दुआए और मन्नते मांगी गई थी। युवाओ ने तो उसके गृह जनपद चम्पावत एस एम एस की मुहीम ही चला रखी थी। इस समय पवनदीप राजन इस समय चंडीगढ़ के रॉक बैंड समूह से जुड़े हैं। साथ ही वो कुमाऊंनी, गढ़वाली, पंजाबी फीचर फिल्मों, एलबम आदि में भी प्लेबैक सिंगिंग करते हैं।

    Leave A Comment ?