KnowledgeBase


    बसंती बिष्ट - पहली महिला जागर गायिका

    Uttarakhand First Women Jagar Singer

    बसंती बिष्ट

    जन्म1953
    जन्म स्थानल्वाणी गांव, चमोली
    माताश्रीमती विरमा देवी
    पतिश्री रणजीत सिंह
    प्रसिद्धि क्षेत्रजागर गायिका, लोक गायिका


    उत्तराखंड में अनेक मौकों पर देवी-देवताओं का स्तुतियां जागर के जरिए की जाती है। इस परंपरा को जागर गायिका बसंती बिष्ट ने न सिर्फ आगे बढ़ाया, बल्कि उन्होंने पूरे भारत को जागर का महत्व भी बताया। यही वजह रही कि उत्तराखंड की पारंपरिक लोक संस्कृति को संजोने के लिए 2017 में उन्हें पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया है।


    बचपन


    बसंती का जन्म जिला चमोली में ल्वाणी गांव में हुआ था। उनकी मां का नाम विरमा देवी था और मां से ही बंसती ने मांगल और जागर गायन सीखा। शादी के बाद उनके पति ने उन्हें प्रोत्साहित तो किया लेकिन समाज इतनी जल्दी बदलाव के लिए तैयार नहीं था। इसी बीच करीब 32 वर्ष की आयु में वह अपने पति रणजीत सिंह के साथ पंजाब चली गईं।


    ऐसे हुई शुरुआत


    पति ने उन्हें गुनगुनाते हुए सुना तो विधिवत रूप से सीखने की सलाह दी। पहले तो बसंती तैयार नहीं हुई लेकिन पति के जोर देने पर उन्होंने सीखने का फैसला किया। हारमोनियम संभाला और विधिवत रूप से सीखने लगी।फिर क्या था बसंती जागर गाती और रणजीत हुड़का (पारंपरिक वाघ यंत्र) बजाते । 1996 में बसंती बिष्ट ल्वाणी गावं की प्रधान बनी । लेकिन उनका मन तो लोक संगीत में रमता था । महज एक साल में ही प्रधान पद से इस्तीफा दे दिया और वर्ष 1997 में देहरादून में बस गई । जिसके बाद बसंती ने पहाड़ की ईष्ट माने जाने वाली नंदा देवी के साथ अन्य देवी देवताओं के जागर कई मंचों पर गाये । यही नहीं बसंती ने गढ़वाल और कुमाऊँ के ग्रामीण इलाकों में गाए जाने वाले मांगलगीत, देव जागर, घटियाली, चौंफुला आदि के संरक्षण के लिए पहाड़ के कलाकारों और जागर गायकों को सूचीबद्ध करने का काम भी शुरू किया।


    40 साल में पहली परफार्मेंस


    40 वर्ष की आयु में पहली बार वह गढ़वाल सभा के मंच देहरादून के परेड ग्राउंड में पर जागरों की एकल प्रस्तुति के लिए पहुंची। अपनी मखमली आवाज में जैसे ही उन्होंने मां नंदा का आह्वान किया पूरा मैदान तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।


    सम्मान


    ⚬ 2017 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा रास्ट्रीय मातोश्री अहिल्या देवी सम्मान
    ⚬ भारत सरकार ने 26 जनवरी 2017 को उन्हें पद्मश्री से विभूषित किया है।
    ⚬ उत्तराखंड सरकार द्वारा तीलू रौतेली नारी शक्ति सम्मान
    ⚬ उत्तराखंड की प्रथम महिला जगर गायिका


    उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि वाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिये यहाँ क्लिक करें: वाट्सएप उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें: फेसबुक पेज उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    हमारे YouTube Channel को Subscribe करें: Youtube Channel उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि

    Leave A Comment ?

    Garena Free Fire APK Mini Militia APK Download