Folk Songs

    यात्रा

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियाँ तक जाना क्या कहने हैं।
    कोलाहल को गीत बनाना- क्या कहने हैं।
    गीतों से कुहराम मचाना- क्या कहने हैं।
    कोयल तो पंचम में गाती ही है लेकिन
    तेरा-मेरा ये बतियाना- क्या कहने हैं।
    बिना कहे भी सब, जाहिर हो जाता है पर
    कहने पर भी कुछ रह जाना- क्या कहने हैं
    अभी अनकहा, बहुत-बहुत कुछ है हम सब में।
    इसी तड़फ को और बढ़ाया- क्या कहने हैं।
    प्यार, पीर, सघर्षों से भाषा बनती है
    ये मेरा तुझको समझाना- क्या कहने हैं।
    इसी बहाने चलो, नमन कर लें, उन सबको
    ‘अ’, से ‘ज्ञ’ तक सब लिख जाना- क्या कहने हैं।
    ध्वनियों से अक्षर ले आना- क्या कहने हैं।
    अक्षर से ध्वनियों तक जाना- क्या कहने हैं।


    गिरीश चंद्र तिवारी "गिर्दा" का जीवन परिचय


    Related Article

    Keisha Ho School Humara

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    Jaintaa Ek Din To Aalo

    Yah rng chunaavee rng thairaa

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    871

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    862

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    769

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    756

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    738

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    736

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    565

    Keisha Ho School Humara

    533

    Aa Ha Re Sabha

    502

    Sherda Bhal Cha

    491

    Also Know

    Dvi Dinak Dyar

    482

    Braj Mandal Desh Dikhaa

    28

    Biiroo Bhadoo ku Desh Baavan Gadoo Ku Desh

    405

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    393

    Jamunaa Taṭ Raam Khelen

    176

    Ijukee naraa_ii laagaili

    139

    Paaravatee Ko Maitudaa Desh

    113

    Rritu Geet - Chaitr

    113

    Daaliyon Naa Kaataa

    367

    Siddhi Ko Daataa Vighn Vinaashan

    16