Folk Songs

    मैं भी कभी घर था

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    MainBhiKabhi

    बंद खिड़कियों के कोनो पर,
    अब जाले पड़े है।
    दरवाजों पर उगी घास बयां करती है
    कि मुद्दतों से बंद पड़े है,
    ये दरवाजे।
    देहली पर ऐपणों के
    मिटे मिटे, पर निशान बाकी है।
    चिड़िया उतरती है अब भी,
    आंगन पर
    कोई लेकिन अब चावल नहीं डालता।
    छत के पटाल भी अब
    धंस गये है बीती बरसातों में,
    सूरज की किरणें मायूस लौट जाती है
    आँगन पर अब कोई धूप नहीं सेखता।
    मैं कभी घर हुआ करता था,
    अब खँडहर हो गया हूँ।

    - वैभव जोशी।

    Related Article

    Vahaan Himaalay Men

    Shiv Mahasoos Hue The Mujhe

    Kuchh Gaanv Saa Baakee Hai

    Ke Ni Hun

    Jay Golu Devata

    Yaad Hai Wo Nandhi Gauraiya

    Aaj har pahaad mujhako

    Devadaar ab utane kahaan

    Ek aur gauraa

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    Aa Ha Re Sabha

    827

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    796

    Sherda Bhal Cha

    770

    Yatra

    766

    Also Know

    Devadaar ab utane kahaan

    161

    Deharaadoon Vaalaa Hoon

    622

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    Jag Chhu Yau Paraai Sherova

    252

    Braj Mandal Desh Dikhaa

    390

    Dhany Yo Graam Badaau

    200

    Holee Aaii Re Kanhaa_ii Rng

    321

    Haau Paanik Pin

    289

    Haan Mohan Giradhaaree

    436

    Aaj Himaal Tuman Ke Dhatyoonchhau

    230