Folk Songs

    हरा पंख मुख लाल सुवा

    हरा पंख मुख लाल सुवा बोलिया जन बोले बागा में
    बोलिया जन बोले बागा में-2 हरा पंख......
    कवन दिशा से बादल रेखा कवन दिशा घनघोर सुवा,
    पूरब दिशा से बादल रेखा पश्चिम दिशा घनघोर सुवा,
    बोलिया जन बोले.....
    इत जन बरसे उत जन बरसे जहाँ पिया परदेश सुवा
    बोलिया जन बोले.....
    काहे की मैं पतैया लिख भेजूं, काहे की करूं स्याही सुवा
    अंचल फाड़ पतैया लिख भेजूं, अंसुवन की करूं स्याही
    बोलिया जन बोले.....
    काहे के हाथ पतैया लिख भेजूं, काहे के हाथ स्नेह सुवा
    कागा हाथ पतैया लिख भेजूं, पंछी हाथ स्नेह सुवा
    बोलिया जन बोले.....
    हरा पंख मुख लाल सुवा......

    Related Article

    कामिनी भर भर मारत रंग

    होली आई रे कन्हाई रंग

    जमुना तट राम खेलें होरी

    जल कैसे भरूं जमुना गहरी

    एक मोती दो हार

    सिद्धि को दाता विघ्न विनाशन

    ब्रज मण्डल देश दिखाओ रसिया

    तुम सिद्धि करो महाराज

    मलत मलत नैना लाल भये

    Leave A Comment ?

    Popular Articles