Folk Songs

    धन्य यो ग्राम बडौ

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    गुमानी जी की यह कविता उन्होने अपने गांव गंगोलीहाट के लिये कही है-


    उत्तर दिशि में वन उपवन छन हिसालू काफल किल्मोड़ा,
    दक्षिण में छन गाड़ गधेरा बैदी बगाड़ नाम पड़ा
    पूरब में छौ ब्रह्म मंडली पश्चिमह हाट बाजार बड़ा,
    तैका तलि बटि काली मंदिर जबदम्बा को नाम बड़ा,
    धन्वंतरि का सेवक सब छन भेषज कर्म प्रचार बड़ा,
    धन्य धन्य यो ग्राम बडौ छौ थातिन में उत्तम उप्राड़ा।

    Related Article

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    984

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    901

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    894

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    858

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    835

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    663

    Aa Ha Re Sabha

    623

    Keisha Ho School Humara

    612

    Sherda Bhal Cha

    592

    Also Know

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    835

    He merii aankhyun kaa ratan

    469

    Tum Siddhi Karo Mahaaraaj

    189

    Jal Kaise Bharoon Jamunaa Gaharee

    115

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    894

    Ek Motee Do Haar

    174

    Jamunaa Taṭ Raam Khelen

    235

    Yaad Hai Wo Nandhi Gauraiya

    54

    Haan Mohan Giradhaaree

    216

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    465