Folk Songs

    धन्य यो ग्राम बडौ

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    गुमानी जी की यह कविता उन्होने अपने गांव गंगोलीहाट के लिये कही है-


    उत्तर दिशि में वन उपवन छन हिसालू काफल किल्मोड़ा,
    दक्षिण में छन गाड़ गधेरा बैदी बगाड़ नाम पड़ा
    पूरब में छौ ब्रह्म मंडली पश्चिमह हाट बाजार बड़ा,
    तैका तलि बटि काली मंदिर जबदम्बा को नाम बड़ा,
    धन्वंतरि का सेवक सब छन भेषज कर्म प्रचार बड़ा,
    धन्य धन्य यो ग्राम बडौ छौ थातिन में उत्तम उप्राड़ा।

    Related Article

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    Aa Ha Re Sabha

    827

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    796

    Sherda Bhal Cha

    770

    Yatra

    766

    Also Know

    Siddhi Ko Daataa Vighn

    476

    Ke Ni Hun

    300

    Tum Siddhi Karo Mahaaraaj

    443

    Jal Kaise Bharoon Jamunaa Gaharee

    231

    Sherda Bhal Cha

    770

    Kaile Baandhee Cheer

    421

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    Ek aur gauraa

    241

    Braj Mandal Desh Dikhaa

    390