Folk Songs

    बुरांश- सुमित्रानंदन पन्त

    Read This Article in Hindi/ English/ Kumauni/ Garwali

    सुमित्रानंदन पन्त जी की अपनी दुदबोली कुमाऊंनी में एक मात्र कविता है।



    सार जंगल में त्वि ज क्वे न्हां रे क्वे न्हां,
    फुलन छै के बुरूंश ! जंगल जस जलि जां।

    सल्ल छ, दयार छ, पई अयांर छ,
    सबनाक फाडन में पुडनक भार छ,
    पै त्वि में दिलैकि आग, त्वि में छ ज्वानिक फाग,
    रगन में नयी ल्वै छ प्यारक खुमार छ।

    सारि दुनि में मेरी सू ज, लै क्वे न्हां,
    मेरि सू कैं रे त्योर फूल जै अत्ती माँ।

    काफल कुसुम्यारु छ, आरु छ, आँखोड़ छ,
    हिसालु, किलमोड़ त पिहल सुनुक तोड़ छ,
    पै त्वि में जीवन छ, मस्ती छ, पागलपन छ,
    फूलि बुंरुश! त्योर जंगल में को जोड़ छ?

    सार जंगल में त्वि ज क्वे न्हां रे क्वे न्हां,
    मेरि सू कैं रे त्योर फुलनक म' सुंहा॥

    Related Article

    Leave A Comment ?

    Popular Articles

    घुघुती बासुती - Ghughuti Basuti

    हमरो कुमाऊँ - Humro Kumaon

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    926

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    903

    अटकन बटकन दही - Atkan Batkan Dahi

    887

    उड़ कूची मुड़ कुचि - Ud Koochi Mudh Kuchi

    856

    भली तेरी जन्म भूमि - Bhali Teri Janmbhoomi

    675

    Aa Ha Re Sabha

    633

    Keisha Ho School Humara

    619

    Yatra

    603

    Also Know

    Biiroo Bhadoo ku Desh Baavan Gadoo Ku Desh

    476

    Malat Malat Nainaa Laal Bhaye

    129

    Rritu Geet - Chaitr

    175

    Yatra

    603

    बेडू पाको बारमासा - Bedu Pako Baramasa

    926

    Shiv Ke Man Maahi

    274

    Keishe Kah Doon In Saalon Men

    471

    भूली निजान आपुण देश - Bhooli Nijan Apun Desh

    903

    Ijukee naraa_ii laagaili

    213

    Ek aur gauraa

    80